Home > शिक्षा/नौकरी > इस किले में छिपाया गया है बेहिसाब रत्न और सोना, इंदिरा ने भी कोशिश की थी निकालने की

इस किले में छिपाया गया है बेहिसाब रत्न और सोना, इंदिरा ने भी कोशिश की थी निकालने की

शिक्षा/नौकरी

इस किले में छिपाया गया है बेहिसाब रत्न और सोना, इंदिरा ने भी कोशिश की थी निकालने की

 

नमस्कार दोस्तो। एक ऐसा किला जिसमे अरबो खरबो की कीमत का बेहिसाब रत्न और सोना गाड़ा गया है। वो किला जिसमे पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने भी अपनी पूरी ताकत लगा दी थी ये संपदा निकालने के लिए। लेकिन ये धन तो मानो एक रहस्य ही बन कर रह गया है। हम बात कर रहे हैं अरावली पर्वत पर निर्मित जयगढ़ के किले की। आज हम आपको बताने वाले हैं इसी रहस्मयी किले के बारे में। दोस्तो ऐसी ही रोचक जानकारी लगातार पाने के लिए हमे फॉलो जरूर करें।

इस किले में छिपाया गया है बेहिसाब रत्न और सोना, इंदिरा ने भी कोशिश की थी निकालने की

Third party image reference

दोस्तो जयगढ़ के किले का निर्माण सवाई जयसिंह ने करवाया था। ऐसा बताया जाता है कि इस किले में आज भी अरबों-खरबों का खज़ाना सोना चांदी और रत्नों के रूप में छिपा हुआ है। इतिहास की अगर बात की जाए तो राजा मान सिंह और अकबर के बीच एक संधि हुई थी। इस संधि के अनुसार यह तय किया गया था कि राजा मान सिंह जिस किसी भी क्षेत्र पर विजय प्राप्त करेंगे वहां बादशाह अकबर का राज होगा, लेकिन वहां से मिले धन संपदा पर राजा मान सिंह का हक़ होगा। ऐसा बताया जाता है कि युद्धों की जीत से मिले बेहिसाब खजाने को राजा मान सिंह ने किले के तहखाने में छुपा कर रखा था।

Third party image reference

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को जब इस खज़ाने की ख़बर मिली तो उन्होंने इस ख़ज़ाने को खोजने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दी थी। तकरीबन छह महीने तक जयगढ़ के किले में छिपे खजाने की तलाश की गई लेकिन कुछ भी नही मिला। इस खजाने के बारे में आज तक किसी को कोई खबर नही है। यह खजाना सिर्फ एक रहस्य मात्र बन कर रह गया है।

Third party image reference

दोस्तो अगर जानकारी पसंद आये तो पक्का लाइक और शेयर करें। साथ ही अपने विचार हमारे कमेंट बॉक्स में लिखकर हमसे साझा करना ना भूलें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *